Description of the Book:

"कुछ कही कुछ अनकही" दैनिक जीवन से साक्षात्कार करने की तरह है। हर दिन‌ हम एक नई सोच से गुज़रते हैं, बस उसी अन्तर्द्वन्द को मैंने शब्दों में पिरोने की कोशिश की है। किताब की सभी रचनाएं पढ़ते हुए मेरे प्रिय पाठक महसूस करेंगे कि ये सारे जज़्बात उनके ही जीवन का हिस्सा है। किताब की एक कहानी "कोविड डायरी से" काफी ख़ास है, इस रचना से सभी पाठकों को जुड़ाव अवश्य ही महसूस होगा। मेरी दूसरी कहानी आपको अपने उन्मुक्त जीवन की याद दिलाएगी। मेरी सभी कविताएं आपको उम्मीद का हाथ न छोड़ने की प्रेरणा देंगी। आशा करती हूॅं कि "कुछ कही कुछ अनकही" मेरे प्रिय पाठकों को अवश्य पसंद आएगी।

कुछ कही कुछ अनकही

₹50.00Price
  • Author's Name: Varun Prabha
    About the Author: मैं पेशे से एक डेंटल सर्जन और शौक से एक लेखिका हूँ। मैंने डेंटल सर्जन और हॉस्पिटल क्वालिटी के क्षेत्र में कार्य किया है। मैंने स्वास्थ्य के क्षेत्र से जुड़ी कई शैक्षणिक योग्यताएँ प्राप्त की हैं। हालाँकि लिखने का शौक़ बचपन से ही था परन्तु व्यस्तता के कारण मेरा ये शौक़ लगभग ख़त्म हो चुका था। परन्तु मेरे बच्चों ने मुझे फिर से लिखने की प्रेरणा दी और पिछले कुछ वर्षों से मैंने फिर से लिखना शुरू कर दिया।
    Book ISBN: 9781005591427