Description of the Book:
 

प्यार, ऐतबार, इबादत और क़यामत में उलझे इंसान को सुलझाने की कोशिश में ये कुछ कविताएं है। इनका मक़सद सिर्फ़ लफ़्ज़ों की महफ़िल सजाना है. इस महफ़िल में किसको, कब, कैसे उसकी जिंदगी के जवाब मिल जाये ये तो पढ़ने वाला ही जानता है। लफ़्ज़ों की महफ़िल में आप सभी का स्वागत है

कलम, करार और क़यामत

₹50.00Price
  • Author Name:  Dhruv Batta
    About the Author: Born in the last summer of the previous century, Dhruv Batta enjoys writing his thoughts and questions about life, love, betrayal, and society in form of the everlasting art called poetry. The poems in these pages are reflective of insights from the author and written free of any theme.
    Book ISBN: 9781005844059