Description of the Book:
 

 

कहा जाता है जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं होता | हर अंत एक नयी शुरुआत को जन्म देता है | मनुष्य जीवन का अंत उससे जुड़ी बाकी ज़िन्दगियों में एक नए जीवन की शुरुआत ले आता है | इसी प्रकार किसी भी चीज़ के अंत में एक नयी शुरुआत छुपी होती है | यह शुरुआत प्रायः जीवन में कईं उथल-पुथल एवं अनिश्चितता ले कर आती है | इसी भाव से प्रेरित हो लिखी गयी है 'अंत...एक शुरुआत' | इस काव्य-संग्रह में कवयित्री के जीवन के अनुभवों एवं भवनाओं का अनूठा संगम है | सभी रचनाएं आप ही में एक अलग अनुभूति प्रदान करने वाली हैं | इसमें प्रेम , वियोग , संकोच , आत्मविश्वास, आत्मसम्मान जैसे भिन्नभिन्न मनुष्य भावों को उजागर किया गया है | यह संग्रह आम जनता हेतु अत्यंत ही सरल भाषा में लिखा गया प्रतीत होता है परन्तु अपने अंदर अनेक गहराइयाँ समेटे है |

अंत...एक शुरुआत

₹50.00Price
  • Author Name: मुस्कान शर्मा  
    About the Author: मुस्कान, अपने अंदर एक गहरा भावनात्मक पहलु समेटे हैं | उनका मानना है की ज़िन्दगी की अनेक कठिनाइयों के बावजूद मनुष्य जीवन मुस्कुराना चाहिए और उम्मीद कायम रहनी चाहिए | वे आईटी सेक्टर में सेवारत हैं एवं लिखने में दिलचस्पी रखती हैं। उनकी कुछ कविताओं को 'आठ धाम अस्सी' नामक काव्य - संग्रह एवं 'मर्म' नामक इ-पत्रिका में प्रकाशित किया गया है | एक विचारशील व्यक्ति होते हुए , जीवन के उद्देश्य को खोजने हेतु, वे कईं विचारों से हो गुज़र उन्हें यहाँ व्यक्त करती हैं। 
    Book ISBN: 9781133976363