Description of the Book:

ये किताब क्यूं? क्या मैं बहुत बड़ा शायर हुं? क्या मुझे शोहरत कमानी है? दोनो ही बातें गलत हैं। ये किताब तो मेरी दिल की बातें आप लोगो तक पहुंचाने के लिए है। इस किताब में मैंने वही लिखा है जो हम और आप महसूस करते हैं। कितना इश्क़ किया, कितना पागलपन था सब दिखेगा। इस किताब में गलतियां भी दिखेंगी आपको। इस किताब से आपको एक Amateur शायर की झलकियां दिखेंगी। ये किताब सबके लिए है, ना उम्र की सीमा है ना कोई रोक टोक। इश्क़ के दो प्रकार होते हैं- मुकम्मल इश्क़ या फिर खता, अब ये आपको तय करना है की इश्क़ क्या है। किताब में वो बातें हैं जो मैने बड़े शायरों, कवियों से सीखा हैं । इसमें कुछ नज़्म और शेर हैं, कविता इक्की दुक्की होंगी क्योंकि अभी मैं कविता लिखना सीख रहा हूं। इस किताब में कुछ उर्दू शब्दों का इस्तेमाल हुआ हैं, जिनके अर्थ आपको शेर के साथ मिल जाएंगे। चलिए फिर इश्क़ पढ़ते है।

अधूरा मुसलसल इश्क़

₹50.00Price
  • Author's Name: Shreyansh
    About the Author: अपने बारे में मैं अपने बारे में क्या बताऊं। मामूली सा इंसान हूं, शायद आप पढ़ने वालों से भी मामूली। पेशे से सोफ्टवेयर इंजीनियर हूं। छोटी सी नौकरी है, अकेला हूं इश्क़ ढूंढता हूं, इश्क़ लिखता हूं। बिहार के छोटे से शहर पटना से आता हूं। चाय से बेइंतेहान इश्क़ है । शायरी शौक़ है, मुहब्बत हैं। बाकी बताने लायक ज्यादा कुछ नहीं हैं पर अगर कुछ जानना चाहते हो तो मेरे ईमेल आईडी पे एक मैसेज डाल दे, जवाब जरूर मिलेगा- shreyansh.v93@gmail.com. श्रेयांश
    Book ISBN: 9781005436445